Saturday, November 15, 2008

तीन सिद्ध ताऊ : गहन तपस्या में लीन

साथियो, मित्रो, भाईयो ,बहनों और सारे वोटरों को तिवारीसाहब का नमस्कार ! 
हमको अफ़सोस इस बात का है की हमको उपरोक्त भाषण देने का सौभाग्य इस बार नही मिला ! कारण हमारी पार्टी ने हमें टिकट देने के काबिल ही नही समझा !  फ़िर भी हमारी व्यस्तताए वैसी ही हैं जैसी की ख़ुद चुनाव लड़ने में होती है ! कारण की पार्टी का काम करना पड़ता है ! हमारी व्यस्तताए अभी बहुत ज्यादा हैं ! और १०/११ दिन की बात है फ़िर आपसे जमकर बात चित होगी ! 

अब यहाँ आगये हैं तो कुछ गप शप हो जाए तो अच्छा रहेगा ! 

एक बार ताऊ २५ वीं मंजिल पर बैठा था ! एक मित्र ने बताया की आपकी पोती  का एक्सीडेंट हो गया है तो ताऊ हडबडी में खिड़की से छलांग लगा देते हैं ! २० मंजिल तक नीचे गिरे तो याद आया की उनके तो कोई पोती ही नही है ! फ़िर दसवीं  मंजिल तक आते  आते उनको याद आया की  उनकी तो अभी तक शादी ही नही हुई ! और जब जमीन पर गिर कर उनकी हड्डी पसली एक हो गई तब याद आया की उनका नाम तो ताऊ ही नही था ! अब ये आप अंदाज लगाओ की इनमे ये दोनों ताऊ कौन कौन थे ? हम नही बताएँगे !


उपरोक्त घटना के बाद ताऊ रामपुरिया , राज भाटिया जी और योगीन्द्र मोदगिल  जी यानी तीनो हरयाणवी अपने घरो से लड़ झगड़ कर तपस्या करने हिमालय के पहाडो  में चले गए ! अब आप जानते ही हो की तपस्या और ताउओ का क्या सम्बन्ध ? तो कुछ घर की याद आने लग गई ! उस जंगल में रास्ता भी मुश्किल सो वापस भी नही जा सकते थे !
 
 
राज भाटिया जी और योगीन्द्र मोदगिल जी  ज्यादा परेशान थे वापस घर जाने के लिए ! और ताऊ रामपुरिया को तो मुंह मांगी मुराद मिल गई थी ! वो जंगल में बहुत प्रशन्न था ! कारण एक तो ताई से लट्ठ खाने का डर खत्म और सुल्फे गांजे चिलम का पक्का इंतजाम वहाँ था ही  ! सो वो किसी कीमत पर वापस नही जाना चाहता था ! तो इनके दो गुट बन गए थे !
 

एक दिन इनकी तपस्या से भगवान् भोलेनाथ प्रशन्न होके प्रकट हो गए !

और उनसे बोले - वत्स वरदान मांगो ! 
भाटिया जी बोले - भोले नाथ , मुझे कुछ नही चाहिए बस मेरे बीबी बच्चो के पास मुझे वापस भेज दो !  
भोलेनाथ - तथास्तु ! और भाटिया जी जर्मनी पहुँच गए !
योगीन्द्र मोदगिल जी ने भी यही वरदान माँगा और उनको भी भोले नाथ ने पानीपत भेज दिया ! 

अब ताऊ रामपुरिया सोचने लगा की मैं क्या करूँ ? अब अकेला कैसे रहूंगा ? 
और घर वापस गया तो ताई मारेगी लट्ठ से ! इस तरह संन्यास लेकर घर लौटने से जग हंसाई होगी सो अलग ! बड़ी परेशानी में फंस लिया ताऊ तो ! 

अब भोले नाथ बोले - ताऊ फ़टाफ़ट मांग वरदान ! हमारे पास समय बहुत कम है ! 
ताऊ - भोले नाथ जी आप तो वरदान स्वरुप राज भाटिया जी और योगीन्द्र मोदगिल जी को वापस युहीं बुलवा दो ! 

और भोले नाथ - तथास्तु कह कर अंतर्धान हो गए ! और इब फ़िर से तीनो ताऊ उसी गुफा में तपस्या कर रहे हैं ! आपको भी इनसे कुछ काम हो तो इन तीनो सिद्ध पुरुषों का पता हमारे पास है ! आप को भी अवश्य लाभ होगा ! आख़िर सिद्ध ताऊ हैं तीनो ! अब बस संसार के दुःख कष्ट मिटाने का ही कार्य करते हैं ! 



14 comments:

संदीप शर्मा Sandeep sharma said...

तीनों ताऊओ ने जबरदस्त तपस्या की...
वाह...

राज भाटिय़ा said...

भाई क्यो हम साधु बाबा लोगो की इतनी तारीफ़ करते हॊ. हम लोग ठहरे मस्त मलगं, जो कोई खुशी से दे दे, उसी मै मस्त, भाई आप सब का भला हो....
जय राम जी की

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

मज़ा आ गया. असली ताऊ तो रामपुरिया जी ही लिकडेहैं जो कि बाकी दोनों को वापस खींच लिया!

Ratan Singh Shekhawat said...

ताऊ रामपुरिया जी तो ताऊओं के भी ताऊ है

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत बढिया भाई तिवारी साहब ! अभी तो चुनाओ में ध्यान दो ! ताऊ तो यहीं रहने वाले हैं ! अगर आपकी पार्टी ... को मालुम पड़ गया की पार्टी कार्यालय के कंप्यूटर से आप ब्लागिंग कर रहे हो तो आपको भी हाईकमान ताउओ के पास हिमालय भिजवा देगी ! :) फ़िर अगले चुनाव में भी टिकट से हाथ धो बैठोगे ! :)

makrand said...

बढिया तिवारी साहब ! मजा आया ! पर ये तो बताईये की ये फोटो कौन से ताऊ बाबा का लगाया है ? :)

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

फोटो तो असली ताऊ की ही होगी ..क्योंकि बाकि दोनों ने अपने -अपने ब्लॉग पर अपना चेहरा लगा रखा है :-)

फ़न्डेबाज said...
This comment has been removed by the author.
फ़न्डेबाज said...

सबको ख़बर करिए की तिवारीसाहब के ब्लॉग पर ताऊ रामपुरिया की असली फोटो लगी है ! और ताऊ बाबा सीधे हिमालय से आ रहे हैं ! पहली बार दर्शन कर लीजिये ! नही तो फ़िर से हिमालय में अंतर्धान हो जायेंगे ! :) हमको भी आज ही परम शौभाग्य प्राप्त हुआ ! जय हो ताऊ की ! और तिवारीसाहब आज तो हमारे सलाम लेलो आप ! आपने ताऊ के दर्शन करवा ही दिए ! बहुत धन्यवाद !

mahabharat said...

अरे नही भाई यह तो मग्गाबाबा की तस्वीर दिख रही है ! :)

Jimmy said...

bouth he aacha post hai ji keep it up




visit my site shyari,recipes,jokes and much more visit plz


http://www.discobhangra.com/recipes/

http://www.discobhangra.com/shayari/

seema gupta said...

" ha ha ha ha ha ha teeno tau kee tapsya to kmaal kee rhee magar agar ab fir se bholebaba inke lgataat tapsya se khush ho kr prkt ho gye to kya hoga...ab ye kaun se vardaan mangegen.... Teewaree sir agar abkee baar vardaan mey inhone aapko hee apne pass bula liya to??????????????? ha ha ha ha"

Regards

Arvind Mishra said...

भाई तुम तो बड़े ताऊ प्रेमी निकले पर राग दीपक में ताऊ कहा फिट होते हैं ज़रा बतईयो !

योगेन्द्र मौदगिल said...

जीते रहो तिवारी साब
खुश रहो
बिल्कुल वैसा लिखा जैसा हम ने समझाया था
लेकिन बच्चा
जितने पैसे लिये थे उतना नहीं लिखा
अब एक काम करो
इधर गुफा के आसपास कोई मोबाइल कूपन वाला नहीं है
शेष बचा हुआ माल हमारे मोबाइल में डलवा दो